कोर्ट में केस की मजबूती न होने के कारण बचकर न निकल पाए कोई भी अपराधी: अपराजिता

एडीसी अपराजिता ने कहा कि जिला फरीदाबाद में चिन्हित अपराध के तहत आने वाले मामलों की जांच पुलिस विभाग पूरी गहनता से कर रिपोर्ट तैयार करें। उन्होंने कहा कि चिन्हित अपराधों में सुरक्षा समीक्षा, एससी-एसटी एक्ट, कैसन बाई, पोस्को सहित ऐसे मामलों की जांच संबंधित पूरी प्रक्रिया की रिपोर्ट बारे उपायुक्त कार्यालय को अवश्य अवगत करवाया जाए।

अतिरिक्त उपायुक्त अपराजिता आज सोमवार को अपने कार्यालय में सरकार द्वारा जारी हिदायतों के अनुसार आयोजित चिन्हित अपराध योजना की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए पुलिस अधिकारियों को दिशा-निर्देश दे रही थी। एडीसी अपराजिता ने पुलिस विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे चिह्नित अपराध में कोर्ट में जाने से पहले अच्छी तरह जांच कर सनसनीखेज मामलों की रिपोर्ट बनाएं और उन पर पुलिस विभाग द्वारा की गई कार्यवाही बारे उन्हें अवगत करवाया जाए।

Advertisement

एडीसी अपराजिता ने कहा कि पॉक्सो एक्ट, 302, 307, 395, 376, 354, 304 बी, एनडीपीएस कमर्शियल, एमटीपी, पीसी एक्ट करप्शन मामले ये सभी चिह्नित अपराध के तहत आते हैं। ऐसे मामलों में गहनता से जांच कर केस अदालत में पेश किया जाये। उन्होंने कहा कि कोई भी अपराधी कोर्ट में केस की मजबूती न होने के कारण बचकर नहीं निकलना चाहिए। कोर्ट में पेशी से पूर्व साक्ष्यों और तथ्यों की मजबूती सुनिश्चित की जाए।

अतिरिक्त उपायुक्त ने पुलिस को निर्देश दिये कि कोई मामला अगर आता है तो उस पर निष्पक्ष रूप से जांच की जाए, जांच के हर पहलू को बारीकी से परखा जाए। उन्होंने सनसनीखेज अपराधों पर भी समीक्षा की और पुलिस विभाग के अधिकारी से कहा कि ऐसे केसों को भी चिन्हित अपराध के तहत लिए जाए और मामले की निष्पक्ष जांच की जाए और केस दर्ज करना सुनिश्चित किया जाए।

Advertisement

समीक्षा बैठक में डीसीपी मुकेश मल्होत्रा और एसीपी सतपाल यादव ने एक- एक करके चिन्हित अपराधों के केसों से संबंधित बचाव साक्ष्य और तकनीकी कानूनी पहलुओं बारे भी बारीकी से तमाम कानूनी पहलुओं पर बारीकी से जानकारी दी।

बैठक में डीसीपी मुकेश मल्होत्रा, एसीपी सतपाल यादव, जिला न्यायवादी सत्येंद्र सहित अन्य पुलिस अधिकारी मौजूद रहे।

Advertisement

Loading

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *